Connect with us

अर्थ जगत

Sahara Refund: निवेशकों को जल्द दी जाएगी रिफंड की दूसरी किस्त, 4 अगस्त को जारी हुई थी पहली किश्त

Published

on

Sahara Refund: Second installment of refund will be given to investors soon, the first installment was released on August 4

Sahara Refund: सहारा समूह की चार समितियों में करीब 2.5 करोड़ निवेशकों के 1.12 लाख करोड़ रुपए फंसे हैं। केंद्र सरकार ने निवेशकों का पैसा वापस लौटाने के लिए 18 जुलाई को ‘सीआरसीएस-सहारा रिफंड पोर्टल’ लॉन्च किया था। इस पोर्टल पर अब तक 20 लाख से ज्यादा लोग आवेदन कर चुके हैं। सरकार ने पहले चरण में 4 अगस्त को वैरिफाई हो चुके 112 आवेदकों के खातों में फंड जारी किया था। अब सितंबर में दूसरे चरण में लोगों के खातों में रकम ट्रांसफर की जा सकती है। बता दें कि लोगों के खातों में आवेदन करने के 45 दिन के अंदर पैसा लौटाया जा रहा है। ऐसे में जिन लोगों ने अभी तक रिफंड के लिए आवेदन नहीं किया है, वे जल्द से जल्द आवेदन करें।

अभी 10,000 रुपए तक ही रिफंड मिलेगा

रिफंड पोर्टल लॉन्चिंग के दिन सहकारिता मंत्री अमित शाह ने कहा था कि फिलहाल 10,000 रुपए तक की ही राशि रिफंड की जा रही है। अगर किसी निवेशक ने इससे ज्यादा राशि निवेश की है, तो उसे फिलहाल 10,000 रुपए ही वापस किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि हम सुप्रीम कोर्ट से ज्यादा राशि जारी करने का अनुरोध करेंगे, ताकि 10000 से अधिक राशि निवेश करने वालों का पूरा पैसा लौटाया जा सके। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने अभी 5000 करोड़ रुपए की राशि ही जारी की है।

फिलहाल 4 को-ऑपरेटिव सोसाइटीज के निवेशक ही कर सकेंगे आवेदन

1.सहारा क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड, लखनऊ

Advertisement

2.सहारायन यूनिवर्सल मल्टीपर्पज सोसाइटी लिमिटेड, भोपाल

3.हमारा इंडिया क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड, कोलकाता

4.स्टार्स मल्टीपर्पज को-ऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड, हैदराबाद

पहले चरण में किया जाएगा 5,000 करोड़ रुपए रिफंड

केंद्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह ने कहा था कि पहले फेज में निवेशकों का 10,000 ही रिफंड किया जा रहा है। इसमें करीब 1.07 करोड़ निवेशकों का पूरा पैसा वापस हो जाएगा। शाह ने बताया कि पहले फेज में कुल 4 करोड़ निवेशकों के बीच 5,000 करोड़ की राशि बांटी जाएगी।

Advertisement

ऐसे करें रिफंड पोर्टल पर आवेदन

1. https://mocrefund.crcs.gov.in/Depositor/Login पोर्टल पर जाएं।

2.जमाकर्ता पंजीकरण पर क्लिक करें।

3. आधार नंबर के अंतिम चार अंक और आधार से जुड़ा मोबाइल नंबर डालें।

4. सेंड OTP पर क्लिक करें और प्राप्त OTP दर्ज करें।

Advertisement

5. जमाकर्ता पंजीकरण पूरा होने पर जमाकर्ता लॉगिन पर क्लिक करें।

6. फिर से आधार नंबर और मोबाइल नंबर दर्ज कर ओटीपी दर्ज करें।

7.नियम और शर्तों को ध्यान से पढ़कर ‘मैं सहमत हूं’ पर क्लिक करें।

8.आपकी पूरी डिटेल्स प्रदर्शित होगी।

9.जमा प्रमाण पत्र की प्रति के साथ दावा अनुरोध फॉर्म भरें।

Advertisement

10.सोसाइटी का नाम, सदस्यता नंबर और कुल जमा राशि की जानकारी भरें।

11. सोसाइटी से पहले कोई लोन या पेमेंट मिला है, तो उसकी जानकारी भरें।

12.निवेश राशि 50,000 रुपए से ज्यादा है, तो पैन कार्ड की जानकारी भरें।

13.दावा सिर्फ एक बार किया जा सकेगा, इसलिए सभी डिपॉजिट की जानकारी भरें।

14.वैरिफिकेशन के बाद दावा फॉर्म डाउनलोड करें।

Advertisement

15.डाउनलोड दावा फॉर्म पर अपनी ताजा फोटो लगाएं और साइन करें।

16.दावा फॉर्म को पोर्टल पर अपलोड कर सम्मिट करें।

17.दावा सफलतापूर्वक सम्मिट करने पर रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर मैसेज आएगा।

18.आपके दावे को संबंधित सहारा सोसाइटी 30 दिन में वैरिफाई करेगी।

19.इसके बाद 15 दिन सरकारी अधिकारी आपकी दावे की जांच कर उसे अप्रूव करेंगे।

Advertisement

20.दावा अप्रूव होने पर आपके आधार से जुड़े खाते में राशि जमा हो जाएगी।

अर्थ जगत

GDP India: अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में 8.4 प्रतिशत रही भारत की GDP, मैन्युफैक्चरिंग-माइनिंग सेक्टर ने किया बेहतरीन प्रदर्शन

Published

on

GDP India: India's GDP was 8.4 percent in October-December quarter, manufacturing-mining sector performed well

GDP India: भारत की अर्थव्यवस्था को लेकर गुरुवार को एक अच्छी ख़बर आई। चालू वित्तीय वर्ष की तीसरी तिमाही (अक्टूबर-दिसंबर 2023) में भारत की विकास दर यानी जीडीपी 8.4 प्रतिशत दर्ज की गई है। ऐसा खासकर विनिर्माण, खनन और उत्खनन और निर्माण क्षेत्रों के अच्छे प्रदर्शन के चलते संभव हो सका है। भारतीय अर्थव्यवस्था की ग्रोथ रेट को लेकर राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) की तरफ से गुरुवार को जारी आंकड़े में यह सामने आया है। रॉयटर्स की खबर के मुताबिक, इसमें कहा गया है कि भारतीय अर्थव्यवस्था की रफ्तार वित्तीय वर्ष 2023-24 में 7.6 प्रतिशत रहने का अनुमान है। आंकड़ों के मुताबिक,यह वित्तीय वर्ष 2022-23 के संशोधित 7 प्रतिशत के आंकड़े से भी ज्यादा है।

अनुमान में किया गया बदलाव

खबर के मुताबिक, एनएसओ ने जनवरी 2024 में पहले जारी किए गए अपने पहले अग्रिम अनुमान में चालू वित्त वर्ष के लिए 7.3 प्रतिशत की वृद्धि का अनुमान लगाया था। एनएसओ ने 2022-23 के लिए सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि को 7.2 प्रतिशत के पहले अनुमान के मुकाबले 7 प्रतिशत तक संशोधित किया था। इससे पहले भारतीय अर्थव्यवस्था चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 7.8% और अगली तिमाही के दौरान 7.6% की दर से बढ़ी। इसके बाद भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) को अपने पूर्ण वित्तीय वर्ष 2023-24 के जीडीपी अनुमान को 6.5 प्रतिशत से संशोधित कर 7 प्रतिशत करना पड़ा।

दुनिया में बजेगा भारत का डंका

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने वित्त वर्ष 2024 में भारत के लिए 6.7 प्रतिशत जीडीपी ग्रोथ का अनुमान लगाया है। पिछली तिमाही में धीमी वृद्धि के बावजूद, भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में से एक के रूप में अपनी स्थिति बरकरार रखने की संभावना है। आईएमएफ ने अनुमान लगाया है कि भारतीय अर्थव्यवस्था चीन (4.6%), अमेरिका (2.1%), जापान (0.9%), फ्रांस (1%), यूके (0.6%) और जर्मनी (-0.5%) जैसी प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं से बेहतर प्रदर्शन करेगी। फिलहाल भारत दुनिया का पांचवीं सबसे बड़ी इकोनॉमी है।

Advertisement
Continue Reading

अर्थ जगत

EPFO: कर्मचारियों के लिए खुशख़बरी, ईपीएफओ ने 2023-24 के लिए ब्याज दर बढ़ाई

Published

on

EPFO: Good news for employees, EPFO ​​increased interest rate for 2023-24

EPFO: ईपीएफओ ने शनिवार को साल 2023-24 के लिए ब्याज दर तय कर दी है। यह ब्याज दर 8.25 प्रतिशत रहेगी, जो कि बीते तीन वर्षों में सबसे ज्यादा है। मार्च 2023 में कर्मचारी भविष्य निधि फंड में सरकार ने 2022-23 के लिए ब्याज दर 8.15 प्रतिशत तय की थी। वहीं 2021-22 के लिए यह दर 8.10 प्रतिशत थी।

सीबीटी की बैठक में हुआ निर्णय

मार्च 2022 में कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने 2021-22 के लिए ब्याज दर को बीते चार दशकों के मुकाबले कम करते हुए 8.1 प्रतिशत कर दिया था। यह 1977-78 के बाद सबसे कम था। ईपीएफओ में फैसले लेने वाली निकाय सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज (सीबीटी) ने शनिवार को हुई बैठक में कर्मचारी भविष्य निधि के लिए 2023-24 में ब्याज दर 8.25 प्रतिशत करने का फैसला किया है। सीबीटी ने मार्च 2021 में ईपीएफ पर ब्याज दर 8.5 प्रतिशत तक तय की थी।

क्या है ईपीएफ का गणित?

कर्मचारी भविष्य निधि, बीस या अधिक कर्मचारियों वाले संगठनों में वेतनभोगी कर्मचारियों के लिए एक अनिवार्य योगदान है। इसके तहत कर्मचारी के वेतन से मासिक आधार पर 12 प्रतिशत हिस्सा ईपीएफ खाते में डाला जाता है और उतना ही योगदान नियोक्ता द्वारा दिया जाता है। नियोक्ता के हिस्से में से 3.67 प्रतिशत हिस्सा ईपीएफ खाते में और बाकी का 8.33 प्रतिशत हिस्सा कर्मचारी पेंशन योजना (ईपीएस) में जमा किया जाता है।

Advertisement
Continue Reading

अर्थ जगत

Jio: जियो प्लेटफॉर्म्स का नया मशीन लर्निंग प्लेटफॉर्म ‘जियो-ब्रेन’, 6जी तकनीक के विकास में आएगा काम

Published

on

Jio Platforms' new machine learning platform 'Jio-Brain' will be useful in the development of 6G technology

Jio-Brain: जियो प्लेटफॉर्म्स ने एक नया 5G इंटीग्रेटेड मशीन लर्निंग और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस प्लेटफॉर्म ‘जियो-ब्रेन’ लॉन्च किया है। जियो ब्रेन सभी तरह के उद्योगों और व्यवसायों को एक इंटीग्रेटिड मशीन लर्निंग प्लेटफॉर्म उपलब्ध कराता है। जियो ब्रेन प्लेटफॉर्म आसानी से कंपनियों के मौजूदा नेटवर्क से जुड़ कर काम करने की काबिलियत रखता है। इसके इस्तेमाल के लिए कंपनियों को अपने मौजूदा नेटवर्क को बदले की जरूरत नहीं पड़ती। फिर चाहे वह टेलीकॉम नेटवर्क हो, एंटरप्राइज नेटवर्क या फिर किसी भी तरह का आईटी नेटवर्क, जियो ब्रेन सभी तरह के नेटवर्क से जुड़ कर काम कर सकता है।

कंपनी का दावा है कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से लैस यह इनोविटिव प्लेटफॉर्म, सैकड़ों इंजीनियरों के प्रयासों और दो वर्षों के अनुसंधान के बाद विकसित हुआ है। मशीन लर्निंग को आसान बनाने के लिए जियो ब्रेन प्लेटफॉर्म्स 500 से अधिक एप्लिकेशन्स से लैस है। इमेज़, वीडियो, टैक्स्ट, डॉक्यूमेंट्स के लिए एडवांस आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस फीचर मौजूद है। वहीं इन-बिल्ट एआई एल्गोरिदम जैसी सुविधाएं भी जियो ब्रेन प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध हैं।

जियो प्लेटफॉर्म्स इसे 5G और भविष्य की तकनीक 6G की उत्पाद श्रृंखला के लिए मील का पत्थर मान रही है। उद्यमों में बदलाव और नेटवर्क के ऑप्टिमाइजेशन में जियो ब्रेन मदद करेगा, साथ ही 6जी विकास के लिए भी मंच तैयार करेगा, जहां मशीन लर्निंग को एक महत्वपूर्ण क्षमता माना जाता है। जियो ब्रेन इनोवेशन इकोसिस्टम का दायरा बढ़ाने के लिए समान विचार वाले आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग रिसर्चर्स के साथ हाथ मिलाने को तैयार है।

Continue Reading

अर्थ जगत

JIO: जियो ट्रू 5जी नेटवर्क से जुड़े 9 करोड़ से अधिक ग्राहक, जियो ने 47 करोड़ ग्राहकों का आंकड़ा पार किया

Published

on

JIO: More than 9 crore customers connected to Jio True 5G network, Jio crosses the mark of 47 crore customers

Jio: रिलायंस के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने जब अक्टूबर 2022 में रिलायंस जियो के ट्रू 5जी नेटवर्क के रोलआउट की घोषणा की थी, तब किसी को भी इसका अंदाजा भी नहीं रहा होगा, कि रिलायंस जियो का 5जी रोलआउट दुनिया का सबसे तेज 5जी रोलआउट साबित होगा। देश भर में उपलब्ध रिलायंस जियो के ट्रू 5जी नेटवर्क से 9 करोड़ से अधिक ग्राहक जुड़े हुए हैं। रिलायंस इंडस्ट्रीज के तिमाही नतीजों में यह बात सामने आई।

कंपनी ने बताया कि जियो नेटवर्क पर कुल डेटा खपत 31.5% बढ़कर 38.1 अरब जीबी तक जा पहुंची है और साथ ही रिलायंस जियो के पूरे डेटा ट्रैफिक का करीब एक चौथाई ट्रैफिक अब जियो ट्रू 5जी नेटवर्क पर शिफ्ट हो गया है। इस हिसाब से 9 अरब जीबी से अधिक का डेटा ट्रैफिक लोड अब जियो का 5जी नेटवर्क संभाल रहा है। रिलायंस जियो पर बात करने का समय भी बढ़कर 1.37 ट्रिलियन मिनट हो गया है।

रिलायंस जियो इन्फोकॉम के चेयरमैन आकाश एम अंबानी ने इस मौके पर कहा “जियो ने दुनिया का सबसे तेज़ 5जी रोलआउट पूरा कर लिया है और अब यह पूरे भारत में उपलब्ध है। JioAirFiber को लेकर ग्राहकों ने अच्छी प्रतिक्रिया दी है, खासतौर पर टियर 3 और 4 के कस्बों और ग्रामीण क्षेत्रों में JioAirFiber को मजबूत शुरुआत मिली है। अगली पीढ़ी के नेटवर्क, डिजिटल प्रौद्योगिकियों और सभी ग्राहक समूहों के लिए विशेष रूप से निर्मित उत्पादों में जियो का निवेश आने वाले वर्षों में स्थायी वृद्धि सुनिश्चित करेगा।”

रिलायंस जियो ने आर्थिक मोर्चे पर भी शानदार नतीजे पेश किए हैं। जियो का शुद्ध लाभ बढ़कर 5,445 करोड़ रु हो गया है। हालांकि कंपनी की प्रति ग्राहक प्रति महीने औसत राजस्व में कोई खास बढ़त देखने को नहीं मिली। परंतु इंडस्ट्री के जानकार इसका मुख्य कारण 5जी नेटवर्क पर की जा रही टेस्टिंग को मानते हैं जिसके लिए ग्राहकों से कोई पैसा नही वसूला जा रहा है। जियो का ग्राहक बेस भी 47 करोड़ के आंकड़े को पार कर गया है।

Continue Reading

अर्थ जगत

Jio: भारत में जियो बना देश का सबसे मजबूत ब्रांड, एसबीआई और एलआईसी को छोड़ा पीछे

Published

on

Jio becomes the country's strongest brand in India, leaving behind SBI and LIC

Number one brand in India: रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) की टेलीकॉम कंपनी जियो (Jio) देश का सबसे मजबूत ब्रांड बन गई है। ब्रांड फाइनेंस द्वारा जारी की गई ‘ग्लोबल-500 2024’ रिपोर्ट के अनुसार जियो साल 2023 में भी सबसे मजबूत ब्रांड के रूप में उभरी है। जियो ने इस मामले में एसबीआई और एलआईसी जैसे ब्रांड को भी पीछे छोड़ दिया है। वहीं दुनिया के सबसे मजबूत ब्रांड की लिस्ट में जियो ब्रांड मजबूती इंडेक्स 88.9 के साथ 17वें स्थान पर है। जबकि वीचैट, यूट्यूब, गूगल, डेलॉयट, कोका-कोला और नेटफ्लिक्स ने इस लिस्ट में टॉप किया है। 

लगातार मजबूत हो रहा ब्रांड जियो

टेलीकॉम सेक्टर की देश की सबसे बड़ी कंपनी जियो पर लगातार लोगों का भरोसा बढ़ रहा है। साल 2016 में जियो ने भारत में टेलीकॉम सर्विस में कदम रखा और पिछले कुछ सालों में ही अपने क्षेत्र का सबसे बड़ा ब्रांड बन चुकी है। ‘ग्लोबल-500 2024’ रिपोर्ट के अनुसार जियो की ब्रांड वैल्यू में 14 फीसदी की बढ़त दर्ज की गई है और यह बढ़कर 6.1 अरब डॉलर तक पहुंच गई है। इसका ब्रांड इंडेक्स स्कोर भी बढ़कर 89 तक पहुंच गया है। इसे AAA ब्रांड रेटिंग दी गई है।

एलआईसी और SBI को मिला ये स्थान

‘ग्लोबल-500 2024’ की सबसे मजबूत ब्रांड की लिस्ट में एलआईसी (LIC) दुनिया में 23वें स्थान पर है। वहीं भारत का सबसे बड़े सरकारी बैंक एसबीआई का नाम इस लिस्ट में 24वें स्थान पर है। इन दोनों भारतीय ब्रांड्स ने इंस्टाग्राम को पीछे छोड़ दिया है। रिपोर्ट के मुताबिक विश्व के 25 सबसे मजबूत ब्रांड की लिस्ट में टॉप पर WeChat, यूट्यूब, गूगल, होटल ब्रांड Marina Bay, रोलेक्स, बैंक ऑफ चाइना, Swisscom, Chanel, State Grid, EY जैसे कई बड़े ब्रांड्स का नाम है।

Advertisement
Continue Reading

ख़बर उत्तर प्रदेश

Ram Mandir: Ban on VIP darshan for four days from Monday, online passes also cancelled Ram Mandir: Ban on VIP darshan for four days from Monday, online passes also cancelled
ख़बर उत्तर प्रदेश13 hours ago

Ram Mandir: सोमवार से चार दिन तक वीआईपी दर्शन पर रोक, ऑनलाइन पास भी हुए कैंसिल

Ram Mandir: चैत्र शुक्ल सप्तमी यानी सोमवार से अयोध्या में श्रद्धालुओं की भीड़ बढ़ने की संभावना है। इसी देखते हुए राममंदिर...

UP News: Good news for government employees, they will get relief from election duty UP News: Good news for government employees, they will get relief from election duty
ख़बर उत्तर प्रदेश2 days ago

UP News: सरकारी कर्मचारियों के लिए खुशख़बरी, चुनाव ड्यूटी से इन्हें मिलेगी राहत

Lucknow: देश में होने वाले चुनावों को सफलतापूर्वक संपन्न कराने में सरकारी कर्मचारियों और सुरक्षाबलों की कड़ी मेहनत शामिल होती है।...

UP News: Taj Mahal is no longer the first choice of people, these cities of UP are attracting tourists UP News: Taj Mahal is no longer the first choice of people, these cities of UP are attracting tourists
ख़बर उत्तर प्रदेश1 week ago

UP News: ताजमहल नहीं रहा अब लोगों की पहली पसंद, पर्यटकों को लुभा रहे यूपी के ये शहर

UP News: उत्तरप्रदेश में आने वाले पर्यटकों की पसंद में बड़ा बदलाव देखने को मिल रहा है। अब पर्यटक आगरा...

UP News: UP ATS arrested three Hizbul terrorists, arrested from Nepal border UP News: UP ATS arrested three Hizbul terrorists, arrested from Nepal border
ख़बर उत्तर प्रदेश2 weeks ago

UP News: यूपी ATS ने हिजबुल के तीन आतंकियों को किया गिरफ्तार, नेपाल बॉर्डर से हुई गिरफ्तारी

UP News: यूपी एटीएस ने पाकिस्तान की खूफिया एजेंसी आईएसआई के सहयोग से भारत में प्रवेश करने वाले हिजबुल मुजाहिदीन...

Mukhtar Ansari: Death of mafia Mukhtar Ansari, lodged in Banda jail, died due to cardiac arrest Mukhtar Ansari: Death of mafia Mukhtar Ansari, lodged in Banda jail, died due to cardiac arrest
ख़बर उत्तर प्रदेश2 weeks ago

Mukhtar Ansari: बांदा जेल में बंद माफिया मुख्तार अंसारी की मौत, कार्डियक अरेस्ट से गई जान

Mukhtar Ansari: उत्तर प्रदेश की बांदा जेल में बंद माफिया मुख्तार अंसारी की गुरुवार 28 मार्च की रात कार्डियक अरेस्ट...

Advertisement

अभी तक की बड़ी खबरें

WEBSITE PROPRIETOR & EDITOR DETAILS

Editor/ Director :- Somesh Singh Senger
Web News Portal: Khabritaau.com
Website : www.khabritaau.com
Company : Khabritaau News
Publication Place: Raipur (CG), Bhopal (MP) & Lucknow (UP)
Email:- khabritaau@gmail.com
Mob: +91 6264 084 601

DPR Links

Trending